HomeCategoriesFilm talesMohammed Rafi Life 10 Interesting Facts

Mohammed Rafi Life 10 Interesting Facts

Mohammed Rafi life 10 Interesting Facts  – मुहम्मद रफ़ी के बारे में 10 रोचक तथ्य

Mohammed Rafi को कौन नहीं जानता, आज हम आपको मोहम्मद रफ़ी के बारे में 10 रोचक तथ्य बताएँगे, जिसको जानकार आपके दिमाग़ मे रफ़ी साहब की यादें दुबारा तरो-ताज़ा हो जाएँगी।

इसे अंत तक पढ़ने के बाद, आप उनकी यादों में कुछ पलों के लिए ज़रूर खो जाँएगे, और उनके गाए हुए गीत भी गुनगुनाएँगे।

उनका गाया हुआ गीत “तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है” अपने समय मे बहुत सुना गया. आप भी इसे एक बार ज़रूर सुनें।

अब हम मोहम्मद रफ़ी के बारे में 10 रोचक तथ्य विस्तार से आप को बतायेगें (10 Interesting Facts about Mohammed Rafi)

  • मोहम्मद रफी का जन्म कब हुआ था ? और मोहम्मद रफी का जन्म कहां हुआ था ?

Mohammed Rafi साहब का जन्म 24 दिसंबर 1924 को पंजाब के एक गाँव कोटला सुल्तान सिंह मे हुआ था.

इस बात को बहुत काम लोग ही जानते होंगे कि इनके बचपन का नाम फीको (Pheeko) था।

रफ़ी साहब का निधन 31 जुलाई 1980 को मुंबई मे हुआ. जिस वक़्त उनकी मृत्यु हुई, उस वक्त उनकी उम्र 55 साल थी।

  • Mohammed Rafi ने कितने गाने गाए ?

रफ़ी साहब ने अपना पहला गाना 13 साल की उम्र मे K. L. Saigal के एक संगीत कार्यक्रम मे गाया था.

इन्होंने अपनी पूरी ज़िन्दगी मे (1940 से 1980 तक) लगभग 26,000 गाने गाए थे। जिसमे 4500 गाने हिंदी में थे.

इसके अलावा उन्होंने 100 से भी ज़्यादा दूसरी ज़ुबानों मे भी गाने गाए. जो की अपने आप मे एक Legend से कम नहीं है।

Also Read:  रॉयल एनफील्ड की कहानी – 2020

अपने इन गीतों के लिए रफ़ी साहब को लगभग छह फिल्मफेयर पुरस्कार मिले, और एक राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिला था.

साल 1948 में, भारत के प्रथम प्रधान मंत्री श्री जवाहरलाल नेहरू ने रफ़ी साहब ​​को उनके इस बहुमूल्य योगदान के लिए रजत पदक से सम्मानित भी किया।

भारत सरकार ने भी साल 1967 में मोहम्मद रफ़ी को पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया।

  • Mohammed Rafi की मृत्यु कैसे हुई ? और किस उम्र में मोहम्मद रफी की मृत्यु हुई ?

मोहम्मद रफ़ी साहब की मृत्यु की वजह हार्ट अटैक का होना था, जिसकी वजह से 31 जुलाई 1980 के दिन इस महान फ़नकार ने दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया.

और अपने पीछे कभी न भूल सकने वाली लाखों यादों को छोड़ गए।

रफ़ी साहब का अंतिम संस्कार किसी जुलूस से कम नहीं था, उनके दफन में 10,000 से भी ज़्यादा लोग शामिल हुए थे.

इतने लोगो का अंतिम संस्कार मे आना ये बताता था कि उनको समाज का हर वर्ग बहुत पसंद करता था.

  • मोहम्मद रफ़ी को कहां दफनाया गया ? और मोहम्मद रफी का अंतिम गीत कौन सा है ?

जिस दिन मोहम्मद रफ़ी को हार्ट अटैक आया, और जिसकी वजह से उनकी उसी दिन मृत्यु भी हो गई, उस दिन रफ़ी साहब ने अपनी ज़िन्दगी के आखरी गाने की रिकॉर्डिंग भी करी थी.

वो जब अपने आखरी गाने की रिकॉर्डिंग करके स्टूडियो से घर गए, उनके घर पहुँचने के कुछ घंटे के बाद ही उनकी मृत्यु हार्ट अटैक की वजह से हो गई।

उनके ज़िन्दगी के आखरी गाना ‘शाम फिर क्यों उदास है दोस्त, तू कहीं आसपास है दोस्त’ जो की फिल्म ‘आस-पास’ मे था।

रफ़ी साहब  के ‘बहारों फूल बरसाओ’ गाने को बीबीसी एशिया ने अपने सबसे लोकप्रिय हिंदी गाने के लिए चुना था. उन्होंने ये गाना फिल्म सूरज (1966) में गया था.

  • Mohammed Rafi best songs कौन से हैं?

सही कहा जाए तो, कोई भी रफ़ी साहब के सर्वश्रेष्ठ गीतों का नहीं बता सकता, क्योंकि उनका गाया हर गीत ही अद्भुत है।

लेकिन फिर भी यहाँ कुछ उनके लोकप्रिय गीत दिए जा रहें हैं।

  • Chaudhvin Ka Chand
  • Baharon Phool Barsao
  • Ehsaan Tera Hoga Mujh Par
  • Teri Bindiya Re
  • Yeh Chand Sa Roshan Chehra
  • Woh Jab Yaad Aaye
  • Hum Kisise Kum Nahin
  • Suhani Raat Dhal Chuki
  • Kya Hua Tera Wada
RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments