Royal Enfield Untold Story in Hindi – रॉयल एनफील्ड की कहानी – 2020

0
221
Royal Enfield Untold Story

हम कही यात्रा कर रहे हो, या किसी काम से मार्किट आये हुए हों। तभी हमें हमारे आसपास से कोई भी रॉयल एनफील्ड बुलेट (Royal Enfield Bullet) की आवाज आती सुनाई दे, तो हम उसे एक बार जरूर देखते हैं।

बुलेट जोकि रॉयल इनफील्ड कंपनी का ब्रांड है. यह सभी उम्र के युवक चाहे वह किसी कॉलेज में पढ़ने वाला स्टूडेंट हो, या ऑफिस में जॉब करता हो को पसंद जरूर आती है। आज के समय में इसे लड़कियां भी खूब पसंद कर रही है। रॉयल एनफील्ड बुलेट के प्रति युवा वर्ग मे इतनी दीवानगी है, कि अगर किसी के सामने से एक ही समय मे कोई बुलेट से जा रहा हो, और कोई ऑडी या मर्सेडीज़ कार भी गुज़र रही हो, तो वो व्यक्ति बुलेट को पहले देखेगा।

आप इस लेख को पूरा पढ़ेंगे, तो आपको रॉयल एनफील्ड बुलेट के बारे मे बहुत सारे रोचक तथ्य पता चलेंगे, इस लेख के अंत मे, मैं आपको ये भी बताऊँगा कि मैंने ये लेख क्यों लिखा।

मित्रों, आज हम रॉयल इनफील्ड के बारे में बात करेंगे, की इसकी शरूआत कब हुई, और इसके सामने क्या क्या परेशानिया आई.

रॉयल एनफील्ड बुलेट मूल रूप से “ओवरहेड वाल्व सिंगल सिलेंडर फोर-स्ट्रोक” मोटरसाइकिल थी, जिसे रॉयल एनफील्ड कंपनी के द्वारा इंग्लैंड के एक शहर रेडडिच (Redditch) में बनाया गया था. रॉयल एनफील्ड कंपनी का मूल काम हथियार बनाना था. इस कंपनी ने द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान सोवियत यूनियन के सैनिको के लिए भी मोटर साइकिल बनाई।  

रॉयल एनफील्ड जो की एक ब्रिटिश कंपनी का ब्रांड था, उसे 1990 में भारत की एक जानी मानी कंपनी ने खरीद लिया था।
सन 1949 में भारत की थल सेना ने रॉयल इनफील्ड को अपनी सेना के बॉर्डर पेट्रोलिंग करने के लिए रॉयल इनफील्ड की बुलेट का काफी संख्या में ऑर्डर दिया। तब रॉयल इनफील्ड कंपनी ने तय किया कि वह अपनी एक फैक्ट्री इंडिया के मद्रास में खोलेगी. मद्रास जो कि अब चेन्नई के नाम से जाना जाता है। सन 1955 में बुलेट के पार्ट्स इंग्लैंड की ब्रिटिश फैक्ट्री से इंडिया भेजे गए। भारत में इस नई फैक्ट्री को इनफील्ड इंडिया के नाम से जाना जाना गया, जल्दी ही इस कंपनी ने कई हजार मोटरसाइकिल का प्रोडक्शन स्टार्ट कर दिया था। रॉयल एनफील्ड भारत की पहली ऐसी कंपनी थी, जिसने 4 स्ट्रोक इंजन वाली मोटरसाइकिल बनाई। 

Royal Enfield (UK) (1931–1966)
Royal Enfield (India) (1955–present)

रॉयल एनफील्ड के दो मॉडल्स मार्किट मे उपलब्ध थे , जो की 350 c.c और 500 c.c के थे। लेकिन किन्ही कारणों की वजह से 500 c.c मॉडल का उत्पादन कंपनी ने 1961 के बाद से बंद कर दिया। लेकिन 350 सीसी मॉडल कंपनी बनाती रही। 1962 में, UK रॉयल एन्फील्ड कंपनी किन्ही कारणों से बेच दी गई,और 1967 के आते-आते “Redditch” मे कंपनी का जो कारखाना था, उसे भी बंद कर दिया गया। वर्ष 1970 में, रॉयल एनफील्ड का उत्पादन पूरी तरह से बंद हो गया था।

Enfield India Ltd. जो की अब चेन्नई (मद्रास) मे थी, उसने 1955 की बुलेट के मूल स्वरूप को बदले उत्पादन जारी रखा, कंपनी ने इसे वर्ष 1977 में ‘Enfield’ नाम से दोबारा ब्रिटिश बाज़ार में पेश किया।  लेकिन इस कंपनी के साथ भी कुछ परेशानी आई, उस वक्त भारत में मंदी भी आई, जिससे रॉयल इनफील्ड की बिक्री पर भी असर पड़ा, साथ ही ईंधन का ज्यादा इस्तेमाल होना भी रॉयल इनफील्ड कंपनी के लिए दिवालिया होने का एक कारण माना गया।

फरवरी 1990 में, Eicher Goodearth ने Enfield India Ltd में 26% हिस्सेदारी खरीदी और 1993 तक Eicher ने Royal Enfield India में बहुमत हिस्सेदारी (60%) हासिल कर ली। Eicher Motors Limited (EML) भारत की एक जानी-मानी ट्रैक्टर और कृषि उपकरण बन बनाने की कंपनी थी, उसने रॉयल इनफील्ड का अधिग्रहण कर लिया।

आयशर ग्रुप के नए सीईओ, जिनका नाम सिद्धार्थ लाल था और इनके पिता का नाम विक्रम लाल था।  उन्होंने जिस तरह से रॉयल इनफील्ड को मार्केट में लांच किया, उससे नव युवकों के बीच दूसरी मोटरसाइकिल को छोड़कर सिर्फ और सिर्फ रॉयल इनफील्ड की ही चर्चा हुई।

Also Read:  Top 5 Part-time Jobs from Home

बुलेट के 2 मॉडल बनाए गए जो कि 350 सीसी और 500 सीसी था। सिद्धार्थ राय की यह कोशिश रही की बुलेट का रँग “काला “हो और उसकी आवाज में जो धक धक की आवाज आती है वह जैसी है वैसी रहे.

Electra 350 रॉयल इनफील्ड का सबसे ज्यादा बिकने वाला मॉडल बना, जो कि कंपनी की कुल बिक्री का आधा था। Enfield India Ltd. ने 1990 मे डीज़ल से वाली मोटर साइकिल भी बनाई , इसका मॉडल का नाम “टोरस (Taurus )” था, लेकिन तकनीकी कमियों की वजह से 2002 मे कम्पनी ने इसका उत्पादन रोक दिया। 

Enfield India कम्पनी 50 से भी अधिक देशों मे व्यापार कर रही है, और भारत मे बनी इस मोटर साइकिल को दूसरे देशों मे भी उपलब्ध करा रही है।

Royal Enfield Bikes in India – भारत में रॉयल एनफील्ड के उपलब्ध Models 

  1. Royal Enfield Bullet 350 & ES (Rs.1.25 onwards)
  2. Royal Enfield Classic 350 BS-IV & BS-VI (Rs.1.59 onwards)
  3. Royal Enfield Himalayan (Rs.1.87 onwards)
  4. Royal Enfield Thunderbird 350 &  X350 (Rs. 1.56 & 1.64 onwards)
  5. Royal Enfield Continental GT 650 (Rs.2.80 onwards)
  6. Royal Enfield Interceptor 650 (Rs.2.64 onwards)

इस लेख का उद्देश्य

मेरे एक मित्र जोकि बुलेट खरीदना चाहता था, उसने मुझे बुलेट के मॉडल को पसंद करने में मदद करने को कहा, क्योंकि मैंने भी कभी बुलेट नहीं खरीदी थी, इसलिए बुलेट के बारे में जानने के लिए मैंने कई वेबसाइट और गूगल से जानकारी ली। और मैंने यह भी सोचा कि मेरी यह जानकारी से उन लोगों को भी मदद मिल सकती है जो बुलेट के बारे में गूगल पर सर्च करते हैं। उम्मीद है आपको मेरी एक छोटी सी कोशिश पसंद आई होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here